Ladkiya Ke Bur Ke Chudai Bahute Tez

Ladkiya Ke Bur Ke Chudai Bahute Tez – बस कुछ दिन पहले की बात हैं एक दिन मैं ऑफिससे लौट रहा था और बारिश में कार चलाता हुआ मुंबई के लोढ़ा ब्रिज से नीचे पंहुचा थाकि आगे रास्ते में किसी लड़की की कार ख़राब हो गई थी,और वो परेशान दिख रही थी मैने कार रोककर पूछलिया, तो बोलीकि मेरी कार ख़राब हो गई है प्लीज़ क्या आप मुझे घर के लिफ्ट देंगे?

रात के करीब 10.30 हो चुके थे कोई सर्विसिंग सेंटर खुलने की उम्मीद नहीं थी मैने बोला चलिये बैठिए, वो मेरी कार में आकर बैठ गई, तब मैने देखा की वो काफ़ी खुबसूरत थी, करीब ३०साल की होंगी। और वो जींस और टीशर्ट और उसके ऊपर काला कोट पहने हुई थी ,पूछने पर पता चला की वही प्राइवेट जाब करती है और आज ज्यादा देर हो गयी थी और उसका नाम शबनम था.

उसको देखकर मेरे मन में हलचल सी होने लगी, कुछ ही देर हम लोग काफी घुलमिल गए. उसका जब घर आया तो वो बोली प्लीज़ अंदर आइये बारिश धीमी है लेकिन थोड़ी देर रुक जायेगी जब तब तक कॉफ़ी पीते है। “Ladkiya Ke Bur Ke”

मेरा मन भी यही चाहता था। सो उसके घर रूक गया फ़िर देखा कि वहां कोई नहीं था। पूछने पर पता चला की उसका पति नेवी में थे और वे कोचीन में थे.और घर में सिर्फ एक नौकरानी थी जो खाना बनाकर चली जाती थी. घर के अन्दर आकर में टेलीविजन देखने लगा और शबनम ने अन्दर जाकर मेरे लिए कॉफ़ी बनाकर लायी और कपड़े बदलने को कहकर कमरे में चले गयी.

अचानक बिजली कडकी और अँधेरा छा गया में थोड़ी देर बेठा रहा लेकिन शबनम नहीं आयी मेंने आवाज लगाते हुए अंदर गया तो किसी से टकरा गया वो शबनम थी वो आलमारी में मोमबती ढूढ़ रही थी टकराने से वो गिरने लगी थी और मेंने उसे अनजाने ही कमर पकड़ लिया था तभी लाईट आ गयी तो देखा.शबनम आँख बंद किये हुए है और सुन्दर गोरा चेहरा मेरे सामने है और मेरे हाथ कमर में है. “Ladkiya Ke Bur Ke”

मेने अब मेरे होंठ अपने आप ही उसके अधरों को चूमने लगे वो भी मुझे किस करने लगी और शबनम के हांथ मेरे पीठ पर आकर जकड गए वो आन्दित हो रही थी मेरे हाथ अब उसके बूब्स पर आ गए और उसके नुकीले चुचे को सहलाने लगे.

तभी शबनम ने आँखे खोल दी और मेरे हांथ उसके चूचो से हट गए लेकिन वो बोली प्लीज़ दबाओ मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. और उसने मेरा हाथ पकड़ कर वापस अपने बूब्स पर रखा और बोली,इस बारिश भरी रात और हम तुम आज एन्जॉय करते है…. मुझे भी सेक्स की भूख थी और शबनम को भी ….सो में फिर से उसके नाजुक लिप्स को चूमने लगा और बूब्स को सहलाने लगा और थोड़ी देर बाद उसके शरीर से कपड़े उतारने लगा. “Ladkiya Ke Bur Ke”

उसने टीशर्ट और लोअर पहना था कुछ देर बाद अब वो मेरे सामने काली ब्रा और पेंटी में थी मैने शबनम को सर से पांव तक किस करता हुआ उसकी नाभि की चाटने लगा और उसकी पेंटी को नीचे खीच दिया और देखा तो शबनम की चूत एकदम साफ़ थी और रसीली भी हो गई थी और काफी तंग थी। “Ladkiya Ke Bur Ke”

अब मैने चूत पर जैसे ही अपने होंठ लगाये और उसकी रसभरी चूत को चूसने लगा और वो सिस्कारिया उह्ह्ह आह करने लगी और मैं अब जोर से चूमने लगा.अचानक शबनम ने मुझे खड़ा होने के लिये बोली और मेरी शर्ट निकाल दी और मेरा पैंट भी उतार दिया मैने अपनी अंडर वियर भी उतार दी और 7 इंच का लंड अपना सीधा तना हुआ था तो शबनम देखती ही रह गई और मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी थोड़ी देर बाद हम दोनों बिस्तर पर आ गए और मेने शबनम को लिटाया और उसकी चूत में जीभ से सहलाने लगा. 

शबनम पूरी तरह उतेजित हो उठी उसने मुझे लंड डालने को कहा.अब मेने शबनम की टांगो अपने दोनों तरफ फैलाया और अपना लंड उसकी चूत में सहलाते हुए चूत पर दबाया और हल्का सा झटका दिया उसकी चूत तंग होने के कारण लंड नहीं जा पाया. दोस्तों आप ये कहानी Blogtipsy.com पर पढ़ रहे है.

अब मेंने शबनम की कमर को जकड़ा और जोर से झटका मारा अब लंड ने चूत की दीवारों को हटाते हुए अन्दर गया लेकिन मेरे लिंग मुंड नही अंदर जा पाया कि शबनम के मुंह से ऊऊईईईइमा आवाज़ आयी तो मैने कहा कि अरे अभी तो मेने पूरा भी नहीं डाला है तो क्यों चिल्ला रही हो तो शबनम बोली पिछले चार महीने से सेक्स नहीं किया है.

मैने कहा कोई बात नहीं में धीरे से करूँगा अब में अपना मुंह शबनम के मुंह के पास ले जाकर चूमने लगा और जोर से झटका दिया अब मेरा पूरा लंड उनकी चूत में पूरा घुस गया और शबनम चिल्लाई आआईईईईइ ऊऊऊओह्हह मार डाला. लेकिन उसकी सभी आवाजें मेरे मुंह में ही दबी रह गयी. “Ladkiya Ke Bur Ke”

अब में कुछ देर शबनम को किस करता रहोर उसके बूब्स को सहलाता रहा की उसका दरद कम हो जाए फिर मैं होले होले लंड को शबनम के चूत से अन्दर बाहर करने लगा और अब शबनम को धीरेधीरे मज़ा आने लगा और अब हम में तेजी से उसका योनी मंथन करने लगा शबनम के मुंह से सिस्कारिया की आवाज आने लगी उह्ह आह उफ्फ्फ “nice come on”अब वह नीचे अपने चूतड़ भी उछालने लगी और करीब बीस मिनिट के बाद हम दोनों का स्खलित होने लगे.

हम लोगों ने आपस में शरीर को जकड लिया और किस करते हुए मेने अपना वीर्य उसकी चूत में ही स्खलित कर दिया हम दोनों बारिश वाली रातों में तीन बार और चुदाई की और शबनम पूरी तरह तृप्त हो गयी थी.

उम्मीद है आपको ये कहानी Ladkiya Ke Bur Ke Chudai Bahute Tez पसंद आई होगी अगर आप चाहते हैं की आप सबसे पहले हमारी साईट द्वारा लिखी गयी कहानी पढ़े तो अभी subscribe करे हमारे साईट को.

देखो जी मुझे तो सेक्स कहानियां लिखना अच्छा लगता हैं और चुदवाना भी मेरा नाम अनामिका शर्मा हैं और मैं इस साईट की CEO हूँ और इस साईट पे आप लोगो को हिंदी सेक्स स्टोरी, हिंदी सेक्स कहानियां, उर्दू सेक्स कहानियां, English Sex Story, बंगाली सेक्स स्टोरी मिलेगी जो अगर आपको पसंद हैं वो पढो और अपने दोस्तों को भी शेयर करो Whatsapp पर धन्यवाद!

One Reply to “Ladkiya Ke Bur Ke Chudai Bahute Tez”

Comments are closed.