Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki – नमस्कार दोस्तों आप लोगो का Blogtipsy.com इंडिया की सबसेपोपुलर हिंदी सेक्स कहानी साईट पे आपका स्वागत हैं. मेरा नाम कृष्णा हैं और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. बात पिछले साल मैं अपने मौसा मौसी के घरपटियाला गया था। उसके घर में कुल चार लोग हैं- मेरे मौसा, मौसी, उनकाबेटा कृष्णा जो 20साल का है और उसकी बेटी अनुप्रियाजो 17 साल की है। मौसा मौसी दोनों ही एकबहुराष्ट्रीय कम्पनी में अच्छे पद पर हैं। उसके घर में पैसे की कोई कमी नहीं है।नौकर-चाकर, गाड़ी और शानो-शौकत की हर चीज़ घर मेंहै। मेरे मौसा मौसी अपने दोनों बच्चों को समय नहीं दे पाते थे। अनुप्रिया हमेशा सेही अन्तर्मुखी रहने वाली और बहुत ही फेशनेबल है। उसके कोई खास सहेली या दोस्त नहींथे और यह बात मुझे उसमें अजीब लगती थी।

मगर मुझे इसकी वजह तब समझ आ गई, जब मुझे यह पता लगा कि अनुप्रिया के अपने ही भाई कृष्णा के साथ शारीरिक-सम्बन्ध हैं। अनुप्रिया उस समय किसी पूर्णतया जवान कन्या जैसे शरीर की मालकिन थी। उनका कद 5’5″ और फिगर एकदम बढ़िया थी। मैं गर्मी की छुट्टियों में पटियाला आया था। दिन भर सैर की, फिर रात को भैया और अनुप्रिया के साथ खाना खाकर अपने कमरे में सोने चला गया। 
ismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

दस मिनट गुजरे होंगे, मुझे अनुप्रिया के कमरे से किसी आदमी की आवाज़ आई। अनुप्रिया का कमरा और मेरा कमरा सटा हुआ ही था। मुझे बड़ा अजीब लगा कि अनुप्रिया इतनी रात को किस से बात कर रही है? मैंने सोचा कि शायद टीवी चल रहा है, मगर मुझे अनुप्रिया की दबी हुई चीख और कुछ हंसने खिलखिलाने की आवाज़ आई, तो मेरे अन्दर कीड़ा काटने लगा, आखिर अनुप्रिया किस से बात कर रही है? मेरे और अनुप्रिया के कमरे के बीच में एक खिड़की थी। मैंने एक स्टूल दीवार के पास लगा लिया और स्टूल पर चढ़ गया। अन्दर का दृश्य देख कर मेरे होश फाख्ता हो गए। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

मैंने देखा कि कृष्णा अनुप्रिया के बिस्तर पर अधनंगी अवस्था में लेटा है और अनुप्रिया उसकी कमर के ऊपर दोनों ओर पैर करके सवार है और बेतहाशा कृष्णा के शरीर को चूमे जा रही है। मैं इतना नादान नहीं था कि यह क्या चल रहा है, समझ न पाता। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा के हाथ अनुप्रिया की टी-शर्ट के अन्दर थे और उसकी छातियों से खेल रहे थे। मुझे बहुत हैरानी हुई के सगे भाई बहन इस अवस्था में कैसे एक दूसरे के साथ हो सकते हैं ऊपर से ये जाहीर था कि यह अनुप्रिया की रजामंदी से हो रहा है और न ही वो नादान है। शायद अनुप्रिया ने अपने अकेलेपन को कृष्णा के साथ ही मिटाने का फैसला कर लिया था। 
ismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

मैं चुपचाप उसके खेल को देखने लगा। अनुप्रिया ने कृष्णा के सर को पकड़ रखा था और अपने होठों को अपने बड़े भाई के होठों से चिपका कर चूमे जा रही थी। कृष्णा भी उतनी ही जोर से उसे अपने बदन से चिपटाए हुए था। अनुप्रिया उसके होठों, माथे, गर्दन को चूमते हुए छाती की ओर आ गई। कृष्णा की छाती के घने बालों को सहलाते हुए चूमते चूमते वो पेट की तरफ पहुँच गई।

फिर अनुप्रिया कृष्णा के ऊपर से उठ गई और उसने कृष्णा की तरफ देख कर हल्की रहस्यमयी मुस्कान दी। कृष्णा ने भी मुस्कुराते हुए अपनी छोटी बहन की तरफ देखा। अनुप्रिया ने अपने हाथों से कृष्णा का अंडरवियर उतार कर उसे नंगा कर दिया, फिर उसके लिंग को पकड़ लिया।

कृष्णा के लिंग को देखकर मैं आश्चर्यचकित रह गया। कृष्णा का लिंग करीब 9 इंच लम्बा और 2 इंच मोटे व्यास का था। अनुप्रिया ने उसके लिंग और अंडकोष को प्यार से सहलाया। अनुप्रिया के हाथ के स्पर्श से ही उसके शिथिल लिंग में कसाव बढ़ गया। अनुप्रिया ने मुस्कुराते हुए लिंगमुंड को चूमा। फिर अनुप्रिया ने तुरंत उसका लिंग-मुंड अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगी। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

मैं विश्वास नहीं कर पा रहा था, मैंने अपने दोस्तों से सुना था कि लड़कियाँ इस तरह से मुखमैथुन करती हैं, वो कहते थे कि लड़कियों को ऐसा करना अच्छा लगता है, मगर मैं उसकी बातों को मजाक समझता था। मगर अनुप्रिया को इस तरह से करते हुए देख मुझे यकीन हो गया कि सच में उसे मजा आ रहा है।

अनुप्रिया उसके लिंग को मुँह के अन्दर लेते हुए ऊपर नीचे सर को चलाने लगी। कृष्णा का लिंग उसकी लार से सन गया था और चमकने लगा था। उसके लिंग की नसें तन गई थी। अनुप्रिया उसके आधे लिंग को मुँह में अन्दर लेकर चूसती थी फिर लिंग मुंड को चूसती थी। उसका लिंग मुंड लाल रसभरी की तरह फूल गया था। 
ismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा ने अनुप्रिया के सर पर हाथ रख कर सर को लिंग की तरफ दबाया ताकि अनुप्रिया और ज्यादा लिंग को मुँह के अन्दर ले ले। मगर अनुप्रिया को खांसी आ गई। अनुप्रिया ने लिंग को मुँह से बाहर निकाल कर ‘नहीं’ की मुद्रा में सर हिलाया तो कृष्णा ने अपनी जिद छोड़ दी।

अनुप्रिया ने उसके बाकी लिंग को बाहर से चाट चाट कर चूसा। करीब 5 मिनट चूसने के बाद कृष्णा का लिंग अनुप्रिया ने छोड़ दिया। फिर उसकी कमर के दोनों तरफ पैर करके लिंग के ऊपर बैठकर अपनी कमर चलाने लगी। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा उठकर बैठ गया और अनुप्रिया को उसने ठीक से अपनी गोद में बैठा लिया। अनुप्रिया ने उसकी गर्दन के चारो ओर अपने हाथों को लपेट लिया और कृष्णा के सर को अपने स्तनों के बीच दबा लिया। अनुप्रिया अपनी कमर को वैसे ही कृष्णा के लिंग के ऊपर चला रही थी। अनुप्रिया के चेहरे पर मस्ती की सुर्खी साफ़ नज़र आ रही थी क्योंकि उसकी योनि पर कृष्णा के लिंग की रगड़ उसे आनंदित कर रही थी। कृष्णा ने अपनी छोटी बहन की स्कर्ट को जाँघों तक ऊपर उठा दिया। अनुप्रिया की दूधिया गोरी गोरी जांघें और पिंडलियों को कृष्णा सहलाने लगा। कृष्णा के हाथ सरकते हुए अनुप्रिया के चूतड़ों तक पहुँच गए। अनुप्रिया के चूतड़ों को उसने पकड़ कर उसने उसकी कमर को अपनी कमर से चिपटा लिया। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

दो मिनट तक दोनों अपनी कमर को चलाते हुए अपने जननांगों को ऐसे ही रगड़ते रहे। दोनों ही मस्ती में सराबोर हो गए थे। कृष्णा ने अनुप्रिया की टी-शर्ट को ऊपर की ओर उठा दिया। अनुप्रिया के कोमल गौरे धड़ की एक झलक देखने को मिली। अनुप्रिया ने अपने हाथ ऊपर को किये और कृष्णा ने उसकी टी-शर्ट को उतार कर फेंक दिया। अन्दर अनुप्रिया ने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी।

मैंने जिंदगी में पहली बार किसी लड़की को इस रूप में देखा था, तो मैं भी उत्तेजना से कांप गया। अनुप्रिया का पूरा शरीर जैसे किसी सांचे में ढाल के बनाया गया था। काली ब्रा में उसके शरीर की कांति और भी बढ़ गई थी। ब्रा के अन्दर अनुप्रिया के बड़े बड़े स्तन कैद थे, जो बाहर आने को बेकरार लग रहे थे।

कृष्णा के हाथों ने तुरंत उसे अपने कब्जे में ले लिया और बड़ी बुरी तरह उसे मसला। अनुप्रिया की ब्रा पारभासी थी, जिसकी वजह से में उसके गहरे रंग के निप्पल देख पा रहा था। मैंने कभी किसी के स्तनों को छूकर नहीं देखा था, मगर मैं कृष्णा को हो रहे उस गुदाज़ स्पर्श का आनंद महसूस कर सकता था। अनुप्रिया दीदी के स्तन बहुत ही गुदाज़ थे, इसका अंदाजा इससे ही लग रहा था, जब जब कृष्णा उसे अपने कब्जे में ले लेता था, अनुप्रिया की ब्रा के कप्स के साइड से स्तन का जो हिस्सा बाहर दिख रहा था, वो फूल जाता था। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा ने अनुप्रिया के स्तनों अग्र भाग को अपनी उँगलियों से चुटकियों से पकड़ कर गोल गोल घुमाया, तो अनुप्रिया सिसिया उठी क्योंकि उसने अनुप्रिया के निप्पल पकड़ लिए थे। उसने निप्पलों को जोर से मींसा तो अनुप्रिया फिर से सिसिया उठी, मगर दर्द से। अनुप्रिया ने अपने निप्पलों को कृष्णा के हाथों से छुड़ा लिया। अनुप्रिया के निप्पल तन गए थे, जो की ब्रा में उभर आये थे। कृष्णा ने उन पर अपनी उँगलियों के पोर को गोल गोल नचाते हुए छेड़ा, तो अनुप्रिया गुदगुदी के मारे फिर से सिसिया उठी।

मेरी चूत का बड़े लंड से उद्घाटन

जब गुदगुदी अनुप्रिया से बर्दाश्त नहीं हुई तो वो कृष्णा के छाती से अपने स्तनों को चिपका कर लिपट गई। कृष्णा ने अनुप्रिया की स्कर्ट के हुक खोले और फिर साइड चेन खोल कर स्कर्ट को उसके शरीर से अलग कर दिया। अनुप्रिया ने अन्दर सफ़ेद रंग की पैंटी पहनी थी। कृष्णा ने उसकी जांघो के ठीक बीच में अपना हाथ फिराया और हल्के हल्के अनुप्रिया के योनि प्रदेश को सहलाने लगा। अनुप्रिया भी सिसियाते हुए उत्तेजित हो रही थी। कृष्णा ने उसकी ब्रा से स्तनों को बाहर निकाल लिया। अनुप्रिया के स्तनों को नग्न देख कर मेरी हालत खराब हो गई। उसके स्तनों में कसाव था, तनिक भी लचक नहीं थी, गोरे गोरे स्तनों पर गहरे भूरे रंग के निप्पल बहुत ही प्यारे लग रहे थे। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा ने अनुप्रिया के एक स्तन को अपनी मुठ्ठी में कैद कर लिया और जोर जोर से दबाने लगा और दूसरे स्तन के निप्पल को अपने होठों में दबा कर चूसने लगा। अनुप्रिया बहुत ही उत्तेजित हो गई थी, उसकी आँखें बोझिल और लाल हो गई थी। कृष्णा के सर को अपने हाथों से पकड़ कर उसका मुँह उन्होंने दूसरे निप्पल से सटा दिया, कृष्णा अपनी छोटी बहन की मन:स्थिति समझ गया और उसने दूसरे निप्पल को मुँह में लेकर चूसकर इन्साफ किया। 
Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा ने अनुप्रिया के स्तनों को हल्के हल्के दांत से काटा, अनुप्रिया थोड़ी थोड़ी देर में उसका सर पकड़ कर दूसरे तरफ के निप्पल की ओर ले जाती, जाहिर था अनुप्रिया को मजा आ रहा था। और जब कभी कृष्णा जोर से स्तनों को काटता था, तो अपने स्तनों को उसके मुँह से छुड़ाकर बनावटी गुस्सा दिखाती थी, और फिर अगले ही पल अपना निप्पल कृष्णा के मुँह को समर्पित कर देती थी। कृष्णा ने काफी देर तक अनुप्रिया का दूध पिया। अनुप्रिया के स्तनों पर उसकी उँगलियों और दांतों के लाल निशान पड़ गए थे। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

दोनों ही अब काफी उत्तेजित हो गए थे। कृष्णा ने अनुप्रिया को बिस्तर पर बैठाया और खुद खड़ा हो गया। अनुप्रिया के मुँह में उसने फिर से अपना लिंग डाला। अनुप्रिया ने तुरंत लिंग को जोर जोर से चुसना शुरू कर दिया। दो मिनट चुसवाने के बाद कृष्णा ने लिंग को अनुप्रिया के मुँह से खींच लिया। अनुप्रिया ने दुबारा चूसने के लिए मुँह खोला, उससे पहले ही कृष्णा ने उसके कंधों को पीछे को धकेल कर उसे बिस्तर पर चित्त लिटा दिया। कृष्णा ने अनुप्रिया की पैंटी की ईलास्टिक में उँगलियाँ फंसा कर पैंटी को उतार लिया, ब्रा के स्ट्रेप को कंधे से नीचे उतार कर स्तनों को ब्रा की कैद से पूरी तरह विमुक्त कर दिया और फिर अनुप्रिया की टांगों को फैला कर खुद बीच में लेट गया। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

मैं शुरू में बस यह सोच रहा था कि अनुप्रिया केवल हल्की-फुल्की मस्ती कर रही है, अनुप्रिया शायद बस मुखमैथुन ही किया करती होगी मगर अब तो मुझे लग गया कि अनुप्रिया कृष्णा के साथ, अपने सगे बड़े भाई के साथ, सेक्स करने के लिए तैयार है।

मुझे अनुप्रिया की चिंता होने लगी कि कैसे वो इतना मोटा लिंग झेल पाएगी क्योंकि मेरे दोस्तों ने बताया था कि मोटा लिंग लड़की को शुरू में बेहिसाब दर्द देता है। कृष्णा ने अनुप्रिया की योनि को सहलाया, फिर उस पर पास में पड़ी तेल की बोतल से तेल निकाल कर तेल लगाया। अनुप्रिया की योनि एक छोटी सी दरार जैसी दिख रही थी। कृष्णा अपनी ऊँगली को योनि के अन्दर डालकर चलाता तो अनुप्रिया मस्ती से सिसियाने लगती थी। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

अनुप्रिया की योनि को अच्छी तरह से तेल से मालिश कराने के बाद कृष्णा फिर से अनुप्रिया की टांगों के बीच बैठ गया। कृष्णा ने अनुप्रिया की योनि के मुँह पर अपना लिंग-मुंड टिकाया तो अनुप्रिया की योनि के भगहोष्ट ऐसे खुल गए जैसे लिंग अन्दर लेने को तैयार बैठे हो। कृष्णा ने अनुप्रिया की कमर को अपने मजबूत हाथों से पकड़ लिया। अनुप्रिया ने भी उसकी कमर के चारों ओर अपनी टाँगें लपेट के घेरा बना कर जकड़ लिया। कृष्णा ने अपनी कमर को अनुप्रिया की तरफ ठेल दिया।

कृष्णा का लिंगमुंड अनुप्रिया की योनि के होठों को फैलाता हुआ अन्दर चला गया। मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ कि कैसे इतना मोटा लिंग-मुंड अनुप्रिया की संकरी सी योनि में अपनी जगह बना लिया। कृष्णा ने दुबारा कोशिश करके थोड़ा सा लिंग और अन्दर प्रवेश करा दिया। अनुप्रिया हल्के हल्के सिसकारियाँ ले रही थी। फिर कृष्णा ने एक जोरदार झटका मारकर लिंग को काफी अन्दर तक अपनी छोटी बहन की योनि की गहराई तक अन्दर पंहुचा दिया कि अनुप्रिया की चीख निकल आई। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

मैंने अनुप्रिया के चेहरे को देखा तो मैं समझ गया कि अनुप्रिया को दर्द हो रहा है। कृष्णा ने दुबारा वैसा ही झटका मारा, तो अनुप्रिया इस बार दर्द से दोहरी हो गई। अनुप्रिया ने कृष्णा की गर्दन में अपने हाथ लपेट कर उसके मुँह को अपने सीने से चिपका लिया।

कृष्णा ने अनुप्रिया के निप्पल को मुँह में ले लिया और जोर-जोर से चूसने लगा और एक हाथ से उसके एक स्तन को जोर-जोर से भींचने लगा।

अनुप्रिया एक मिनट में ही सामान्य नज़र आने लगी क्योंकि उसके मुँह से हल्की हल्की उत्तेजक सिसकारियाँ निकल रही थी और कृष्णा पर उन्होंने अपनी पकड़ ढीली कर दी थी। कृष्णा ने फिर से एक जबरदस्त शोट मारा अनुप्रिया इस बार दहाड़ मार के चीख पड़ी।

अनुप्रिया बोल पड़ी- दो मिनट रुक नहीं सकते ! मेरी जान निकली जा रही है दर्द के मारे ..स्स्स्स ….स्सस्सस्सस … Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

मैंने देखा कि इस बार अनुप्रिया की आँखों में आँसू तक आ गए थे। मुझे ऐसा लगा कि कृष्णा उनका बलात्कार कर रहा है। कृष्णा ने एक बार “सॉरी” बोलकर अनुप्रिया के होठों को अपने होठों से चिपका लिया और जोर-जोर से उसे चूमने लगा और साथ ही अनुप्रिया के स्तनों को दबाने लगा। अनुप्रिया भी उतनी तेजी से उसे चूम रही थी। कृष्णा हल्के हल्के अपनी कमर चला रहा था। अब अनुप्रिया धीरे धीरे सामान्य होती लग रही थी। मुझे इतना समझ आया कि जब अनुप्रिया को दर्द होता था, कृष्णा उसे उत्तेजित करके दर्द को ख़त्म कर देता था। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

अनुप्रिया ने अपने टांगो को जकड़ को अपने बड़े भाई कृष्णा की कमर के चारों ओर कस लिया।

कृष्णा ने अनुप्रिया के होठों को छोड़ दिया और पूछा- अब डालूँ क्या? दर्द तो नहीं है ना?

अनुप्रिया बोली- आराम आराम से डालो लेकिन ! जल्दी क्या है? मैं कोई भागे थोड़ी न जा रही हूँ? 
Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा बोला- मैं तो समझता हूँ, लेकिन यह नहीं समझता, यह पूरा अन्दर जाना चाहता है.. (उसका इशारा अपने लिंग की ओर था..)

अनुप्रिया बोली- इसको बोलो, अपनी छोटी बहन को दर्द न दे, प्यार से धीरे धीरे करे न, तो छोटी बहन भी पूरा आराम से करने देगी।

अभी भी मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि क्या अनुप्रिया अपनी योनि में कृष्णा का नौ इंची लिंग पूरा ले पाएगी? मुझे लगा शायद उत्तेजना की वजह से वो कृष्णा से ऐसी सेक्सी बातें कर रही होगी .. खैर.. Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा ने अपनी पोजीशन ली। अपनी ऊँगली को अनुप्रिया की योनि की तरफ ले गया और हल्के हल्के हाथ चलाते हुए कुछ सहलाने लगा। मैं ठीक से देख तो नहीं पा रहा था कि वो क्या सहला रहा है, मगर इतना देखा कि उसकी हरकत से अनुप्रिया पागल हुए जा रही थी। अनुप्रिया जोर-जोर से सिसिया रही थी और कह रही थी- भैया रुक जाओ ! भैया रुक जाओ ! अपने लिंग को अन्दर डालो ! Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

मैंने देखा कि कृष्णा का आधा लिंग तो अभी भी अनुप्रिया की योनि के बाहर था। अनुप्रिया ने कृष्णा के हाथ को पकड़ कर उसकी हरकत को रोकना चाहा मगर कृष्णा ने अपनी हरकत को बंद नहीं किया बल्कि उसने एक जोरदार झटका मारकर अपना लिंग अनुप्रिया की योनि में काफी अन्दर तक ठूंस दिया। इस बार अनुप्रिया के मुँह से उफ़ भी नहीं निकली बल्कि वो आह.. सी.. स्स्स्स…सस… की आवाज़ें निकाल रही थी। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा ने एक और झटका मारा तो अनुप्रिया बोली- पूरा अन्दर गया न ! अगर बचा है तो वो भी डाल दो ! मुझे बहुत अच्छा लग रहा है !

कृष्णा ने हरी झंडी देखकर तीन चार जोरदार शॉट मारे और अपना लिंग जड़ तक अनुप्रिया की योनि में घुसा दिया और अपने होठों को अनुप्रिया के होठों से चिपका कर उसके ऊपर चित्त लेटा रहा। अनुप्रिया की आँखों में इस बार फिर से आंसू आ गए थे। मैं समझ गया अगर कृष्णा अनुप्रिया के होठों को अपने होठों से सील नहीं करता तो अनुप्रिया फिर से दहाड़ मार के चीखती। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

दो मिनट तक वो वैसे ही उनको चूमते हुए उसके ऊपर लेटा रहा। फिर उसने अपनी कमर को धीरे धीरे गति दी। वो धीरे से कुछ इंच लिंग अनुप्रिया की योनि से निकालता और फिर से उसे अन्दर प्रवेश करा देता। जब अनुप्रिया के शरीर कुछ ढीला हुआ तो कृष्णा समझ गया कि अब उसे दर्द नहीं है। उसने अनुप्रिया के होठों को आजाद कर दिया और उसकी आँखों में झांकते हुए पूछा- अब ठीक है? Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

अनुप्रिया ने बस इतना कहा- जालिम, जान ले लो मेरी।

और अनुप्रिया ने फिर से अपने बड़े भाई के होठों को अपने होठों से चिपका लिया। कृष्णा ने अब झटकों की गति और गहराई दोनों ही बढ़ा दी। अनुप्रिया ने अपनी टाँगें ढीली कर ली। अब मैं वो नज़ारा साफ़ देख पा रहा था कि कैसे कृष्णा का नौ इंची पिस्टन अनुप्रिया की योनि रूपी इंजिन में आराम से अन्दर बाहर आ जा रहा था। अनुप्रिया की योनि का छल्ला उसके लिंग पर एकदम कसा हुआ था। अनुप्रिया के चूतड़ के नीचे मैंने चादर को देखा तो वो भीगी हुई थी। दर असल अनुप्रिया की योनि से कुछ द्रव रिस रहा था जो उसके चूतड़ों के बीच की घाटी से होते हुए नीचे चादर को भिगो रहा था। इस द्रव में भीग कर कृष्णा का लिंग भी चमक रहा था। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

अनुप्रिया ने कृष्णा के होठों को छोड़ दिया और जोरजोर से सिसिकारियाँ लेने लगी। अनुप्रिया कमर को उठा-उठा कर कृष्णा के लिंग को पूरा पूरा अपनी योनि के अन्दर ले रही थी। कृष्णा भी अपने लिंग को लगभग पूरा बाहर निकाल कर वापस अनुप्रिया की योनि में जड़ तक ठूंस देता था।

मुझे अपने दोस्तों द्वारा बताई गई दो बातों पर अब यकीन हो गया कि मोटा लिंग लड़की को घुसाते समय तकलीफ देता है मगर घुसाने के बाद उतना ही ज्यादा मजा भी देता है। मुझे यह बात समझ आ गई कि अगर संयम, उत्तेजना और समय तीनो चीजों का सही प्रयोग किया जाए तो कितना भी मोटा लिंग हो, वो लड़की की कसी से कसी योनि में प्रवेश कराया जा सकता है। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

अचानक अनुप्रिया में मैंने अजीब सा बदलाव देखा। अनुप्रिया बहुत जोरजोर से सांस लेने लगी थी, उसके स्तन और निप्पल अकड़ गए थे। अनुप्रिया के भगहोष्ट कृष्णा के लिंग के ऊपर फड़फड़ाते हुए खुल-बंद हो रहे थे।

अनुप्रिया ने कृष्णा को अपने हाथो और टांगों की जकड़ में कैद कर लिया ताकि वो और झटके न मार पाए। अनुप्रिया की योनि से एक तरल द्रव की धार निकल आई और नीचे बेडशीट को भिगोने लगी। मैंने पहली बार किसी लड़की का स्खलन देखा था। अनुप्रिया स्खलित हो गई थी। 
Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

कृष्णा ने झटके और तेज मारने शुरू किये। दो मिनट में ही उसके शरीर में कम्पन शुरू हो गए और एक जोरदार शॉट के बाद वो अनुप्रिया की टांगों के बीच धंस गया और वैसे ही अपनी छोटी बहन के ऊपर लेट गया। उसकी कमर में हल्के हल्के कम्पन दिख रहे थे। कुछ ही देर में उसका शरीर ढीला हो गया। काफी देर वो अनुप्रिया के ऊपर लेटा रहा। Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki

अनुप्रिया उसकी गर्दन, कान और होठों को बार बार चूम रही थी और आत्मसंतुष्टि के भाव के साथ मुस्कुरा रही थी।

I hope You like this story “Jismani Chudai Bahan Aur Bhai Ki” please share this post in your whatsapp friend’s. We remove the Facebook and Twitter for Protect your account. So Please Keep Our Post to share to your’s Whatsapp Friend.

देखो जी मुझे तो सेक्स कहानियां लिखना अच्छा लगता हैं और चुदवाना भी मेरा नाम अनामिका शर्मा हैं और मैं इस साईट की CEO हूँ और इस साईट पे आप लोगो को हिंदी सेक्स स्टोरी, हिंदी सेक्स कहानियां, उर्दू सेक्स कहानियां, English Sex Story, बंगाली सेक्स स्टोरी मिलेगी जो अगर आपको पसंद हैं वो पढो और अपने दोस्तों को भी शेयर करो Whatsapp पर धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.