Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai

Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai – बात उस समय की है जब मैंने 12 वीं की परीक्षा दी थी और परिणाम का इन्तजार कर रहाथा।

एक दिन रात को हम सब खाना खा रहे थे.. तभी पापा ने कहा- अगर तू 12वीं पास हो गया तो मैं तुझे बाइक ला दूँगा।

भाई ने कहा- मैं भी तुझे अच्छा सा मोबाइल फोन गिफ्ट में दूँगा।

मम्मी ने कहा- और कुछ चाहिए हो तो मुझे बोलना..

मैं बहुत खुश हुआ.. फ़िर हम सब खाना खा कर अपने-अपने कमरों में जाने लगे और Bhabhi Ji बर्तन धोने लगीं। मैं उधर ही बैठ कर टीवी देखने लगा।

फ़िर थोड़ी देर बाद Bhabhi Ji अपने कमरे की तरफ़ जा रही थी, तभी मैंने उनको रोक कर पूछा- सब लोग मुझे गिफ्ट में कुछ न कुछ दे रहे हैं.. आप मुझे क्या दोगी?

तभी Bhabhi Ji ने कहा- आपको जो लेना हो वो मुझसे माँग लेना.. मैं दूँगी। 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

मैंने कहा- प्रोमिस?

तो उन्होंने कहा- पक्का प्रोमिस..

फ़िर परिणाम आया और मैं पास हो गया।

अब मैंने कॉलेज ज्वाइन किया।

फ़िर एक दिन मैं कॉलेज से घर आया तो Bhabhi Ji कपड़े धो रही थीं।

मुझे देख कर Bhabhi Ji ने कहा- आ गए देवर जी..

फ़िर Bhabhi Ji मुझे खाना देने के लिए खड़ी हुईं तो मैंने देखा कि Bhabhi Ji तो एक पटाखा माल दिख रही थीं.. क्योंकि Bhabhi Ji का पूरा बदन पानी से भीगा हुआ था और उनके शरीर से उनके कपड़े चिपक गए थे।
इस समय वो बिल्कुल sunny leone सी कामुक लग रही थीं।

मैंने Bhabhi Ji को पहली बार ऐसी नजरों से देखा था.. तभी से मेरे मन में Bhabhi Ji को चोदने का ख्याल आया। 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

उस दिन मैंने बड़े ही ध्यान से उनका जिस्म निहारा.. उनका फिगर लगभग 32-28-32 का होगा।

Bhabhi Ji जब रसोई में जाने लगीं तो मैं उनकी मटकती गान्ड को देखने लगा। तभी Bhabhi Ji पीछे देखा और मुझे देख कर पूछा- ऐसे क्या देख रहे हो?

मैंने सकपका कर कहा- कुछ नहीं..

फ़िर मैं खाना खाने लगा और टीवी देख रहा था।

आज मैं एक मूवी लाया था.. उसका नाम था Ba Pass.. जो मेरे दोस्त ने दी थी। तो मैं DVD को चला कर देखने लगा।

प्रिया Bhabhi Ji भी मूवी देखने लगीं।

उसमें पहला सीन आया कि लड़के की मौसी उस लड़के को अपनी सहेली के पास भेजती है और फ़िर उसमें चुदाई के सीन आने के डर से मैंने टीवी बंद कर दिया। 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

तो Bhabhi Ji बोली- चलने दो न.. देवर जी..

मैंने कहा- वो अच्छा सीन नहीं है।

फ़िर भी Bhabhi Ji ने कहा- मुझे देखना है।

मैंने फिल्म फिर से चला दी।

उसमें लड़का चुम्बन करने लगा और चुदाई भी करने लगा।

फ़िर Bhabhi Ji ने मेरी ओर देखा और मुस्कुरा दिया.. उन्होंने मुझे छेड़ना शुरू कर दिया।

Bhabhi Ji- देवर जी आप की कोई गर्लफ्रेंड है?

मैं- नहीं..

Bhabhi Ji- क्यों नहीं है.. आप तो दिखने में भी अच्छे और स्मार्ट हो.. फ़िर क्यों नहीं है?

मैं- कोई पसंद ही नहीं आई।

Bhabhi Ji- आपको कैसी चाहिए? “Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai

मैंने कह ही डाला कि आप के जैसी..

Bhabhi Ji शर्मा कर बोली- ठीक है.. मैं मेरी जैसी ढूँढूगी.. ठीक है।

मैं- हाँ और अगर नहीं मिली तो?

Bhabhi Ji- तब की तब सोचेंगे।

मैं- ठीक है मैं आप को 30 दिनों की मोहलत देता हूँ।

Bhabhi Ji- ठीक है।

हम फ़िर सोने जा ही रहे थे कि फोन आया कि भैया का एक्सिडेंट हुआ है और वे हस्पताल में भर्ती हैं। 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

मैं तुरन्त Bhabhi Ji को लेकर हस्पताल गया.. गाँव से शहर 35 किलोमीटर दूर है..

जैसे ही हम अस्पताल पहुँचे तो मालूम हुआ कि भैया को पैर में चोट लगी थी और आपरेशन होना था।

Bhabhi Ji मुझसे लिपट कर रोने लगीं और मुझे मजा आने लगा। तभी मम्मी-पापा भी आ गए।

मैंने Bhabhi Ji को हाथ फेर कर शान्त किया और मैंने खुद को भी सम्भाला।

फ़िर डॉक्टर ने बताया कि एक महीने तक अस्पताल में ही रुकना पड़ेगा।

पापा ने कहा- मैं और तुम्हारी मम्मी रुकते हैं तुम दोनों घर जाओ..

ऐसे ही 25 दिन गुजर गए.. सब कुछ सामान्य हो चला था।

मैंने Bhabhi Ji से कहा- मेरी शर्त याद है ना?

Bhabhi Ji- मेरे जैसी तो नहीं मिलेगी।   “Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai

तो मैंने उनकी आँखों में आँखें डाल कर कह ही दिया- नहीं मिलेगी का क्या मतलब.. आप तो हो।

Bhabhi Ji ने मेरी नजरों को भांपा और बोली- सोचेंगे।
पांच दिन बाद Bhabhi Ji को मैंने फिर बोला.. तो Bhabhi Ji ने कहा- ढूँढ़ ली लेकिन तुम्हारे भैया को आज घर लेकर आना है।

तभी खबर आई कि डॉक्टर ने भैया को और पांच दिन हस्पताल में रुकने को कहा है।

फ़िर पापा ने कहा- तुम दोनों घर जाओ..

मैं Bhabhi Ji को बाइक पर बिठाया.. तो मैंने गौर किया कि Bhabhi Ji आज मुझसे चिपक कर बैठी थीं। मुझे मजा आ रहा था।

मैंने कहा- ऐसे मत बैठिए.. लोग आप को मेरी बीवी समझेंगे।

Bhabhi Ji- मैं तेरी पत्नी ही हूँ।

मैंने- क्या सही में Bhabhi Ji?

Bhabhi Ji- हाँ.. अब मेरी जैसी नहीं मिली तो अब तो मैं ही तेरी हूँ।

मैंने- Bhabhi Ji पता है ना.. कि पति क्या करता है?

Bhabhi Ji- हाँ सब मालूम है.. आज हमारी सुहागरात है।

मैंने- सही में?

Bhabhi Ji- हाँ..

फ़िर हम लोग घर पहुँच गए।

Bhabhi Ji ने खाना बनाया फ़िर खाना खाने के बाद मैंने कहा- अब सुहागरात मनाते हैं।

Bhabhi Ji ने कहा- थोड़ी देर इंतजार करो।

मैंने कहा- ठीक है।

Bhabhi Ji ने कहा- जब तक तुम बाहर हो आओ। “Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai

फ़िर जब मैं थोड़ी देर बाद कमरे में गया.. तो पूरा कमरा सजाया हुआ था और Bhabhi Ji दुल्हन के जोड़े में बैठी थीं।

फ़िर मैं Bhabhi Ji के पास गया और घूंघट उठाया.. तो Bhabhi Ji रो रही थीं।

मैं- आप क्यों रो रही हो?

Bhabhi Ji- देवर जी सब लोग मुझे बांझ बोलते हैं.. मेरी शादी को तीन साल हो गए हैं.. फ़िर भी मैं माँ नहीं बन पाई हूँ.. इसलिए मुझे सब लोग बांझ बोलते हैं.. सासू माँ भी ऐसा ही कहती हैं जबकि तुम्हारे भैया का खड़ा ही नहीं होता… अब उसमें मेरी क्या गलती है?

मैं- Bhabhi Ji आप रो मत.. मैं सब ठीक कर दूँगा।

ऐसा बोल कर मैंने Bhabhi Ji को चुम्बन करना शुरू कर दिया…

तकरीबन मैं दस मिनट तक उसे चूमता रहा और ब्लाउज के ऊपर से मम्मे सहलाता रहा..
और एक हाथ अन्दर डाल कर मैंने उसके निप्पल को दबाया तो Bhabhi Ji चिहुंक उठी..

यह कहानी आप Blogtipsy.com पर पढ़ रहे हैं !

फ़िर मैंने ब्लाउज खोला और ब्रा भी उतार दी।
उनके मस्त मम्मे उछल कर बाहर आ गए।

मैंने मम्मों को खूब मींजा और एक मम्मे को मुँह लगा कर पीने लगा..
मुझे बहुत नशा सा हो रहा था..बीच-बीच में तो मम्मों को काट भी लेता था।
चूची काटने पर Bhabhi Ji चीख पड़ती थी पर उसको भी खूब मजा आ रहा था।
वो गरम हो चली थी..

अब मैंने साड़ी निकाली.. फ़िर उसका घाघरा और पैन्टी भी निकाल दी।

Bhabhi Ji की चूत एकदम सफाचट थी.. उस पर एक भी बाल नहीं था।

बिना झांट वाली चूत देख कर मैं पागल सा हो उठा था।

फ़िर मुझसे रहा न गया और मैं चिकनी चूत को सहलाने लगा।

तभी एक ऊँगली चूत में डाली तो Bhabhi Ji के मुँह से सिसकारी निकलने लगी- आहह.. मर गई.. ओहह.. देवर जी.. ऐसे ही सहलाते रहो.. खूब मजा आ रहा है ओहह.. माँ.. मजा आ रहा है.. हे भगवान.. स्वर्ग में हूँ। “Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai

मैं लगातार चूत में ऊँगली पेलता रहा..
तभी Bhabhi Ji झड़ गई.. और सारा रस मेरी ऊँगली में लग कर बहने लगा।

फ़िर Bhabhi Ji ने मेरे कपड़े उतारे और मेरा खड़ा लंड देख कर उनकी आँखें फटी की फटी रह गईं। 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

मैं- क्या हुआ Bhabhi Ji?

Bhabhi Ji- कितना बड़ा है आप का..

मैं- क्या?

Bhabhi Ji शर्मा रही थीं..

लेकिन मैंने कहा- अपने पति से शर्म कैसी?

Bhabhi Ji- लल..ल्ल्ल..लंड..

मैं- आपके लिए ही तो है।

Bhabhi Ji- सच में?

मैं- हाँ Bhabhi Ji।

फ़िर उन्होंने मेरा लन्ड चूसना शुरू किया।
करीबन 15 मिनट तक वे चूसती रही और मैं झड़ने लगा, Bhabhi Ji मेरा सारा माल पी गईं।
थोड़ी देर हम लेटे रहे फ़िर Bhabhi Ji ने लंड सहलाना शुरू किया और लौड़े को खड़ा किया।

फ़िर Bhabhi Ji ने टाँगें चौड़ी की और मैंने छेद पर निशाना लगाया.. एक धक्का मारा.. तो अभी थोड़ा सा ही अन्दर गया कि Bhabhi Ji चिहुंक उठीं.. 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

Bhabhi Ji ने कहा- तुम्हारे भैया का छोटा होने के कारण.. मेरी चूत कसी हुई है.. मैं चीखूँ या चिल्लाऊँ.. तुम रुकना मत..

मैंने कहा- ठीक है..

फ़िर मैंने दूसरा धक्का मारा तो मेरा आधा लन्ड अन्दर जा चुका था और Bhabhi Ji की आंखों से आंसू निकल रहे थे।

फ़िर मैंने आधे लन्ड से ही चुदाई शुरू कर दी।

Bhabhi Ji को मजा आने लगा और फ़िर एक जोर से धक्का मारा तो थोड़ा सा लन्ड ही बाहर रह गया लेकिन Bhabhi Ji चीखने लगीं और मेरी पकड़ से छूटने की कोशिश करने लगीं।

फ़िर देर ना करते हुऐ मैंने एक और धक्का मार दिया..
Bhabhi Ji रोने लगीं और मुझे रुकने को कहने लगीं.. तो मैं रूक गया।

फ़िर Bhabhi Ji के आंसुओं को पोंछने लगा और उन्हें चुम्बन करने लगा। 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

फ़िर थोड़ी देर Bhabhi Ji बाद नीचे से अपने चूतड़ों को हिलाने लगीं..
तो मैं भी धक्के मारने लगा और Bhabhi Ji सिसकारियाँ भरने लगीं- ऊओहह.. आहह.. माँ.. मजा आ रहा है उई ममममाँ और जोजओरसे देवर जी..
मैं धकापेल चुदाई करता रहा..
करीब बीस मिनट तक चोदने के बाद मैं Bhabhi Ji अकड़ गईं जबकि वो दो बार पहले ही झड़ चुकी थीं..
पर अबकी बार उनके रज की गर्मी ने मुझे भी पिघला दिया और मैं भी झड़ने ही वाला था।

मैंने कहा- मेरा माल निकलने वाला है। “Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

Bhabhi Ji ने कहा- अन्दर ही छोड़ दो राजा.. कब से तरस रही हूँ।

फ़िर मैं चूत में ही झड़ गया और Bhabhi Ji के ऊपर लेटा रहा।

मैं उन्हें प्यार से चुम्बन करने लगा।
फ़िर मैं खड़ा हुआ.. Bhabhi Ji को उठने में दिक्कत हो रही थी.. तो मैंने सहारा दिया। 
“Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

Bhabhi Ji की चूत सूज गई थी और खून भी निकला था।
हम बाथरूम में गए और उन्होंने मुझे साफ़ किया.. मैंने उनको साफ़ किया.. फ़िर वापस आकर फ़िर चुदाई की..

इन पांच दिन हमने बहुत चुदाई की और इसी बीच बाजार से मैंने एक लॉकेट भी लाकर Bhabhi Ji को पहनाया और Bhabhi Ji ने मंगलसूत्र समझ कर पहन लिया..
मैंने उनकी माँग में सिन्दूर भी पूर दिया था और Bhabhi Ji ने अगले महीने एक दिन बताया कि वो मुझे तोहफा देने वाली हैं।

मैंने पूछा- क्या तोहफा?

तो उन्होंने बताया- मैं माँ बनने वाली हूँ।  “Bhabhi Ki Adult Movie Dikha Ke Chudai”

Bhabhi Ji आज भी मुझे अपना पति मानती हैं और हम जब भी मौका मिलता.. हम खूब चुदाई करते हैं।

Bhabhi Ji के प्रसव होने पर Bhabhi Ji की बहन आई थी.. जो मुझे बेहद पसंद थी.. मैंने Bhabhi Ji को बताया कि वो मुझे बहुत पसंद है।

Bhabhi Ji ने कहा- ठीक है.. तेरी इससे शादी करवा दूँगी।

देखो जी मुझे तो सेक्स कहानियां लिखना अच्छा लगता हैं और चुदवाना भी मेरा नाम अनामिका शर्मा हैं और मैं इस साईट की CEO हूँ और इस साईट पे आप लोगो को हिंदी सेक्स स्टोरी, हिंदी सेक्स कहानियां, उर्दू सेक्स कहानियां, English Sex Story, बंगाली सेक्स स्टोरी मिलेगी जो अगर आपको पसंद हैं वो पढो और अपने दोस्तों को भी शेयर करो Whatsapp पर धन्यवाद!